अखिल भारतीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा 🥇इतिहास🥇

Akhil Bhartiya Chandravanshi Kshatriya Mahasabha [History] अखिल भारतीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा [इतिहास]

सन् 1912 ई० में भारत के जनगणना विभाग चंद्रवंशियों रवानी क्षत्रिये के इतिहास की जानकारी दी और भारत कंपनी एक्ट 1882 के तहत महासभा का रजिस्ट्रेशन हुआ जिसका नाम “अखिल भारतवर्षीय चन्द्रवंशी क्षत्रिय महासभा” [ Akhil Bhartiya Chandravanshi Kshatriya Mahasabha ] रखा गया|

चंद्रवंशी रावणी सम्मेलन का 5 वां वार्षिक 28th और 29th दिसंबर सन् 1910 को अधिवेशन हुआ। स्व० नथुनी प्रसाद सिंह का इस में अहम् योगदान रहा जिसको चंद्रवंशी क्षत्रिये वंशज कभी भुला नहीं सकते और इसका कर्ज कभी चूका नहीं सकते|

यह सहमति हुई कि सभी चंद्रवंशी रवानी क्षत्रिये और चंद्रवंशी कहार क्षत्रिये भाइयों को खुद को चंद्रवंशी क्षत्रिये घोषित करना चाहिए और आने वाली जनगणना में चंद्रवंशी क्षत्रिय दर्ज किया जाना चाहिए।

अगले साल, हिंदुस्तान के 90% राज्यों में इनको जनरल केटेगरी में रखा गया और साथ में चंद्रवंशी क्षत्रिये का दर्जा भी मिला|

लेकिन बात ये याद रखनी है की आज तक बिहार और झारखण्ड में जनरल केटेगरी में नहीं रखा गया| ये आज भी केटेगरी में है लेकिन ये सर्कार का मानना है |

आज भी इस समुदाय के लोग अपने आप को चंद्रवंशी क्षत्रिये मानते है | जनरल केटेगरी में रखते है और साथ में सरकार की तरफ से दी हुए साडी सुभदाये को तिरस्कार करते है | वो लोग किसी भी रिजर्वेशन का लाभ उठाना उचित नहीं समझते|

Chandravanshi facebook Group

आल इंडिया चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा

अब मैं भारत सरकार की अनुमति से “अखिल भारतीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा” के बारे में बताने जा रहा हूं। मेरे पास चंद्रवंशी क्षत्रिय, कहार क्षत्रिय और रवानी क्षत्रिय के सभी प्रमाण हैं।

मैं नीचे दी गई जानकारी और संपादन या कॉपीराइट की अनुमति के कॉपीराइट के स्वामित्व में कानूनी कार्रवाई के अधीन है। आप वेबसाइट लिंक साझा करने के लिए स्वतंत्र हैं।

“अखिल भारतीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा” इस समुदाय के सभी लोगों को समान अवसर देने का एक सफल मिशन था।

  • खड़े होने के बराबर अधिकार।
  • बोलने का समान अधिकार।
  • शादी करने का समान अधिकार।
  • शिक्षा पाने का समान अधिकार।

यह 1900 की शुरुआत में लॉन्च किया गया था और कड़ी मेहनत के साथ, यह सफल हुआ। पूरे भारत के लोग जमा हो गए और चंद्रवंशी समाज में नई क्रांति लाई। इस क्रांति के बाद, सभी कहार क्षत्रिय और रावणी क्षत्रिय अब चंद्रवंशी क्षत्रिय हैं।

[लेटर प्रूफ 1 – कॉपीराइट हमारे स्वामित्व में]

पत्र संख्या 37-12
दिनांक बलिया 24 जून 1912
सेवा,
राष्ट्रपति,

जरासंध के वंशज, मगध के एक राजपूत राजा थे  कई किंवदंतियाँ हैं जो रावणियों के जरासंध के वंशज होने के दावे का समर्थन करती हैं। ऐसा कहा जाता है कि राजा देव मुंगा (गया) और रामनगर (बनारस) के स्वर्गीय महाराजा भी उन्हें राजा जरासंध के वंशज के रूप में पहचानते थे।

आपका आभारी
श्री। एल एम जोपलिंग
आईसीएस

[लेटर प्रूफ 2 – कॉपीराइट हमारे स्वामित्व में]

दिए गए विवरण के साथ अनुमति के बिना संपादन, नकल, या संशोधन कानूनी कार्रवाई के अधीन हैं।

महोदय,
महामहिम राज्यपाल, संयुक्त प्रांत को संबोधित अपनी याचिका दिनांक १ ९ ३० के हवाले से, मुझे यह कहने के लिए निर्देशित किया जाता है कि 1931 की जनगणना में खुद को क्षत्रिय या चंद्रवंशी क्षत्रिय / रवानी के रूप में लौटाने वाली रावणी समुदाय को कोई आपत्ति नहीं है।

Sd. AC. Turner
Deputy Secretary. संख्या। 1167
कार्यालय जनगणना अधीक्षक, बिहार, हजारीबाग

All India Chandravanshi Kshatriya Mahasabha
All India Chandravanshi Kshatriya Mahasabha

All India Chandravanshi Kshatriya Mahasabha

At the 5th annual session of the chandravanshi rawani conference held here on the 28th and 29th December 1910.
It was agreed that all Chandravanshi brethren should declare themselves and be recorded Chandravanshi kshatriya in coming census.

Now I am going to tell about “All India Chandravanshi Kshatriya Mahasabha” with the permission of the Indian government. I have all the proof of Chandravanshi Kshtriye, Kahaar Kshtriye, and Rawani Kshtriye.

I owned the copyright of given below information and editing or copying without permission is subject to legal action. You are free to share the website link.

“All India Chandravanshi Kshatriya Mahasabha” was a successful mission to give equal opportunity to all people of this community.

  • Equal rights to stand.
  • Equal rights to speak.
  • Equal rights to get married.
  • Equal rights to get an education.

It was launched at the beginning of the 1900s and with hard work, it got to succeed.

People from all over India got accumulated and brought the new revolution in Chandravanshi Samaj. After this revolution, all kahaar kshatriya and Rawani Kshtriye are now Chandravanshi Kshatriya.

[Letter proof 1 – copyright owned by us]

Letter number 37-12
Date Ballia 24 June 1912
Service,
President,

Jarasandha’s descendants were a Rajput king of Magadha. There are several legends that support the Ravanese claim to be descendants of Jarasandha. It is said that King Dev Munga (Gaya) and the late Maharaja of Ramnagar (Benaras) also identified him as a descendant of King Jarasandha.

Grateful
Mr. LM Jopling
ICS

[ Letter Proof 2 – Copyright owned by Us ]

Editing, Copying,  or modifying without Permission with given details are subjected to legal action.

Sir,
With reference to your petition dated Dec 1930 addressed to his Excellency, the Governor, United provinces I am directed to say that there is no objection to the Rawani Community returning themselves as kshatriya or Chandravanshi Kshtriye / Rawani at the Census of 1931.

Sd. AC. Turner
Deputy Secretary.
No. 1167
Office of the Census Superintendent, Bihar, Hazaribagh

शेष लेख पढ़ें

चंद्रवंशी के देवता, देवी और गोत्र 🥇Chandravanshi Gods, Goddesses & Gotras🥇

महराज जरासंध की कहानी 🥇Jarasandh जन्म और मृत्यु का सत्य🥇

चंद्रवंशी समाज का इतिहास 🥇Chandravanshi Rawani kshatriya 🥇

चंद्रवंशी कहार का इतिहास 🥇Chandravanshi Kahar🥇

Chandravanshi facebook Group
Chandravanshi facebook Group

मुझे उम्मीद है कि इस गाइड ने आपको दिखाया कि अखिल भारतीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा 🥇इतिहास🥇 क्या है।

और अब मैं आपसे पूछना चाहता हूं।

क्या आपने अखिल भारतीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा 🥇इतिहास🥇 कुछ नया सीखा ?

या हो सकता है कि आपका कोई सवाल हो।

किसी भी तरह से, अभी नीचे एक टिप्पणी छोड़ दें।

मैं इस ब्लॉग में आपके उत्तर का उल्लेख करूंगा।

जय जरासंध 🙂

💪 सौगंध मुझे इस मिट्टी की, मैं चंद्रवंशी समाज नहीं मिटने दूंगा, मैं चंद्रवंशी सर नहीं झुकने दूंगा! 💪
– निशांत चंद्रवंशी

Summary
अखिल भारतीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा [ इतिहास ]
Article Name
अखिल भारतीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा [ इतिहास ]
Description
अखिल भारतीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा Akhil Bhartiya Chandravanshi Kshatriya Mahasabha. All India Chandravanshi Kshatriya Mahasabha.
Author
Publisher Name
United Chandravanshi Association UCA | संयुक्त चंद्रवंशी महासंघ
Publisher Logo

2 thoughts on “अखिल भारतीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा 🥇इतिहास🥇”

    • Do not worry brother. I am here for this. If you want to write anything on chandravanshi kahar, write and give it to me.I will share it here on this blog.

      चिंता मत करो भाई। मैं इसके लिए यहां हूं। यदि आप चन्द्रवंशी कहार पर कुछ भी लिखना चाहते हैं, तो मुझे लिखें और मुझे दें। मैं इसे इस ब्लॉग पर साझा करूंगा।

      Thank you.

Leave a Reply

%d bloggers like this: